Tuesday, December 8, 2015

New Indie Comics


*) - Artwork from Neha Rawat Battish's debut comic 'Tales of Tintin'
----------------------------------


*) - Ashes - Adish Origins (Red Streak Publications), available at Flipkart, Raj Comics Website and Amazon.
------------------------------------------


*) - ICBM Comics & Meta-Desi Comics Presents Holly Hell Vol 2
------------------------------------------


*) - Vrica (Chariot Comics)

Saturday, November 28, 2015

Character Bio

Info about couple of Indian Origin Characters in DC Comics

Aruna is a fictional supeheroine published by DC Comics. She first appeared in Batgirl Annual # 1 (August 2000), and was created by Scott Peterson and Mike Deodato. Aruna is a metahuman who can change her physical shape and appearance at will, but not her mass. She is also trained in the martial arts. Aruna uses these abilities to work as a stunt double.
-----------------------------
Celsius is the superhero alias of Arani Desai, a fictional character in the DC Comics series, Doom Patrol. She first appeared in Showcase #94 (September 1977), and was created by Paul Kupperberg and Joe Staton. She is among the very few superheroes of South Asian heritage, and may be the first ever such hero created by DC Comics.
‪#‎indiancomics‬ ‪#‎comics‬ ‪#‎character‬ ‪#‎info‬ ‪#‎Celsiuscomics‬

--------x----x----x-----x--------

*) - Inspector Steel 

Inspector Amar lost some major parts of his body after an accident. In order to save his life, his brain was placed into a mechanical body; making him a cyborg. His friend, Professor Anees, was the one who performed this operation.

Inspector Steel is composed of armor plating, ICs, chips, various weapon systems, and electronic wizardry. The only human part within him is his brain, which is wired to the rest of the systems.

He is a heavily armored cyborg who cannot be harmed by simple weapons. He has x-ray vision, a fully automatic bullet and rocket firing Megagun, scanners and many digital equipments such as a lie detector machine, fax etc. built in. Normal bullets and bombs can not harm him. His body is completely resistive to any outside interference.

Saturday, September 19, 2015

Artist Gaman Palem


Gaman Palem an Indian comic book illustrator. He has illustrated more than 100 Indian children's comics, working mainly on mythological subjects.

Education in Mass Communication took Gaman Palem, Chennai, to procure a doctorate degree in the same subject from the Madurai Kamaraj University, Tamil Nadu. However, Palem’s mind was not glued to academics. A true graphic visualizer and an avid follower of graphic novels from all over the world, Palem decided to set sails into the larger ocean of graphic visualizing and today he is one of the highly acclaimed graphic designers and an artist who uses graphic novel format as a medium to express his ideas. With a deep understanding of Indian mythologies as well as their regional versions and interpretations, Gaman Palem makes use of his knowledge for creating a series of works that blend the mythical characters to contemporary contexts.

Gaman's first series of eight picture books, The Golden Mythology Series, won the National Award for Excellence in Printing Children's Books. Gaman Palem worked at Loyola College of Education in Chennai, Tamil Nadu, was a visiting faculty at Raffles College, a creative consultant in many publishing houses and animation studios.

He became interested in comics at a very young age of two. Later, it just became a passion.

He also works in 3D animation, but is more interested in creating graphic novels and comics. Gaman's artistic style is influenced by Indian iconography, combining the traditional illustration techniques of watercolour, pen and ink with modern digital techniques. His debut art show was in September at The United Art Fair 2012. An exhibition on Freedom to March with Ojas Gallery 2013, New Delhi, where he interpreted Mahatma Gandhi, Dandi march, in his unique graphic novel format and in Punebiennale 2015 with 'Swachh Bharath' in his own unique graphic narrative manner. Gaman Palem lives and works in Chennai. His works have been published in major graphic magazines, journals and he has exhibited widely in India. 

Friday, September 18, 2015

Call for Entries - ICF # 09

इंडियन कॉमिक्स फैंडम पत्रिका के आगामी वॉल्यूम # 09 के लिए कॉमिक्स - ग्राफ़िक नोवेल्स संग्राहक मित्रों द्वारा निम्नलिखित विषयों में से किसी एक पर लेख, संस्मरण आमंत्रित है।
*) - मेरे कॉमिक्स संग्रह की कहानी।
*) - एक संग्रहकर्ता के रूप में मेरे लिए सबसे अच्छा वर्ष। 
*) - भारतीय कॉमिक्स के "गोल्डन ऐज" दौर की यादें। 
*) - आपकी कल्पना से कैसा होगा भारतीय कॉमिक्स और उनके कलेक्टर्स का भविष्य?

अगर आप चाहें तो एक से अधिक विषयों का समावेश कर एक लेख बना सकते है। पत्रिका में प्रकाशन हेतु लेखों के चयन का अधिकार प्रकाशक का है। अपने लेख आप letsmohit@gmail.com पर ई-मेल करें या इंडियन कॉमिक्स फैंडम पेज पर मैसेज करें। धन्यवाद!

Friday, September 4, 2015

ICF #Featured


*) - Sunil Gavaskar, the supersleuth, comic series.


*) - Bahadur by Abid Surti and Govind Brahmania 

#indiancomics #comics #bahadur #abidsurti#govindbrahmania #cover


*) - Captain Sundar (Alt2Media)


*) - Express Comics #indiancomics #comics #india#promo


*) - Kriyetic Comics Vol. 1 Cover

Wednesday, August 5, 2015

Popular Bengali Comics Series


*) - Nonte Phonte is a Bengali comic-strip (and later comic book) creation of Narayan Debnath which originally was serialized for the children's monthly magazine Kishore Bharati. The stories featuring in the comic strips focusses on the trivial lives of the title characters, Nonte and Phonte, along with a school-senior, Keltuda, and their Hostel Superintendent. The comics have appeared in book form and have been recreated since 2003 in colour. A popular animation series based on the characters has also been filmed. #comics #bengali#indiancomics


*) - Batul the Great (Bengali Comics) ‪#‎Indiancomics‬ ‪#‎comics‬ ‪#‎bangla‬ ‪#‎batul‬

Monday, July 13, 2015

#ICF News


*) - Sudershan (Chimpanzee) Author: Rajesh Devraj and Meren Imchen Publisher: Hachette India ISBN: 9789350090763. Genre: Graphic Novel Pages: 124  #comics #indiancomics #art #cover #india#graphicnovel #freelance_talents
-----------


*) - Upcoming project by Graphic India
-------------

*) - Amar Chitra Katha launches first ACK Stories Alive fiction novel
Amart Chitra Katha, the publisher of one of India's largest comic series has launched a new novel Counter Theft. It is the first fiction to come out from the brand under its imprint ACK Stories Alive. ACK has sold over 90 million copies in 20 languages so far and is home to popular comics like Tinkle and Karadi Tales.
------------------------

*) - Off topic :))

Tuesday, July 7, 2015

ICF Updates

*) - Indian by Choice, Graphic Novel by Amit Dasgupta 

*) - Nirmala and Normala (Graphic Novel, Penguin Books India) by Sowmya Rajendran and Niveditha Subramaniam


"Nirmala and Normala are twins separated at birth *dramatic music*. While one goes on to become a heroine, the other goes on to become a normal person. Yes, we know we should put ‘normal’ in quotes. We also know that we should issue a disclaimer that there’s no such thing as normal, but really, let’s talk about that later. If you’ve ever sat through a movie wondering why in the world the heroine is playing with street children or why she seems so daft despite being Harvard-educated, you should listen to Nirmala’s story. As for Normala, well, we all know her, don’t we?"

Tuesday, June 30, 2015

IWC Online Availability Update



CaptVikram batra PVC    ‘Yeh Dil Maange more’

ColNJC Nair AC, KC ‘True Maratha’

FlyingOfficer Nirmal Jeet Singh Sekhon PVC, Sabre Slayer

CaptBana Singh PVC  ‘FrozenFury’


MajorSandeep Unnikrishnan AC ‘Braveheartof Mumbai’

gclid=CjwKEAjwuoOpBRCSy6yQm66J1g8SJABrXW48GKJEKpaBUOWfpB6Eqf4ixOWmuyPMaZp5NyirR0oqVBoC_gTw_wcB




OnlineApp read




April 2015 Release - Commander BB Yadav MVC - 'Killer Squadron' 

Friday, June 5, 2015

Annual Poll 2015 Result


Campfire Graphic Novels (37.4% Votes) surpasses 3-time champion Holy Cow Entertainment (22.3% Votes) to win ICF's Fourth Annual Poll !!! Congratulations Team CGN. 
smile emoticon
 Yali Dream Creations clinches podium spot with 11.8% Votes.

Partner Communities - Indian Comics Universe Fan Club, RFN, RCF, Indian Comics Galaxy, Indian Comics Fans Junction, Comics Diwane.
*Inactive publications featured during 2012-2014 polls, indie publishers with very little following or publishers which mainly publish reprints (ACK Media etc), not included in the poll list this year.

Friday, May 22, 2015

ICF Annual Poll 2015


                                                             Indian Comics Fandom
Annual Poll - Best Budding Comics Publication (2015)
It’s the time of the year to find the Best Budding Comics Publisher We have been running this annual poll since 2012 and it is the 4th anniversary of the poll. Holy Cow Entertainment won the poll on all three previous occasions becoming ICF Triple-Cube Champion. Who will win the poll in 2015? ‪#‎icf‬ ‪#‎indian_comics‬
*Inactive publications which featured during 2012-2014 polls, indie publishers with very little following or publishers which mainly publish reprints (ACK Media etc) are not included in the poll list this year.

Thursday, May 14, 2015

ICF FB Updates

*) - "Tina's Mouth" - An Existential Comic Diary, which follows 15-year-old Indian American Tina Malhotra as she weathers an especially fraught semester at her elite Southern California prep school.


*) - Graphic Novels by Sarnath Banerjee


*) - "Bhimayana: Experiences of Untouchability" from Navayana Publishing, in New Delhi. Writer S. Anand and traditional Pardhan-Gond artists Durgabi Vyam and Subhash Vyam craft a graphic biography of Dr. B.R. Ambedkar (1891-1956) ‪#‎graphic_novels‬ ‪#‎freelance_talents‬ ‪#‎indian_comics‬‪#‎ambedkar‬

Tuesday, May 5, 2015

सदाबहार परशुराम शर्मा जी से मेरी मुलाक़ात....


जीवन में कई बार छोटी-छोटी बातें आपको चौकाने का दम रखती है, बशर्ते आपकी आदत या किस्मत ऐसी बातों को देख सकने कि हो। भाग्य से कुछ सामान खरीदने बाजार गया और बाइक स्टैंड पर लगाते समय क्रिएटिव कोर्सेज का एक पोस्टर दिखा जिसपर एक नाम को पढ़कर लगा कि यह तो कहीं अच्छी तरह सुना लग रहा है पर उस समय भाग-दौड़ में याद नहीं आ रहा था कि कहाँ। पोस्टर पर एक संजीदा बुज़ुर्ग गिटार पकडे  खड़े थे। खैर, सामान खरीदते समय याद आया की पोस्टर पर लिखा नाम परशुराम शर्मा तो बीते ज़माने के प्रख्यात उपन्यास एवम कॉमिक्स लेखक का भी था। साथ में यह भी याद था कि परशुराम जी का पता मेरठ का बताया जाता था। इतना काफी था इस निष्कर्ष पर आने के लिए कि सामने लेखक-विचारक परशुराम शर्मा जी का ही ऑफिस है। पहले तो मैंने भगवान जी को धन्यवाद दिया कि उन्होंने बाइक जिस एंगल पर स्टैंड करवाई वहां से मुंडी टिल्ट करके थैला उठाने में मुझे सर का पोस्टर दिख गया। थोड़ी झिझक थी पर मैंने सोचा कि अब इतनी पास खड़ा हूँ तो बिना मिले तो नहीं जाऊँगा। उनसे बड़ी सुखद और यादगार भेंट हुई और काफी देर तक बातों का सिलसिला चलता रहा, इस बीच उन्होंने अपने सुन्दर 2 गीत मुझे सुनाये और बातों-बातों में मेरे कुछ आइडियाज पर चर्चा की।


270 से अधिक नोवेल्स और कई कॉमिक्स प्रकाशनों के लिए सौइयों कॉमिक्स लिख चुके 68 वर्षीय परशुराम जी अब मेरठ में अपना क्रिएटिव इंस्टिट्यूट चलाने के साथ-साथ स्थानीय म्यूजिक एलबम्स,  वीडिओज़ बनाते है। बहुमुखी प्रतिभा के धनि परशु जी लेखन के अलावा गायन, निर्देशन, अभिनय में भी हाथ आज़मा चुके है और अब तक उनकी लगन किसी किशोर जैसी है। यह उनके साथ हुयी भेंट, कुछ बातें उनके आग्रह पर हटा ली गयी है। 


*) - दशको तक इतना कुछ लिखने के बाद आपके बारे में पाठक बहुत कम जानते है, ऐसा क्यों?
परशुराम शर्मा - बस मुफलिसी का जीवन पसंद है जहाँ मैं अपनी कलाओं में लीन रहूँ। वैसे उस वक़्त अचानक सब छोड़ने का प्लान नहीं था वो हिंदी नोवेल्स, कॉमिक्स का बुरा दौर था इसलिए अपना ध्यान दूसरी बातों पर केंद्रित किया। 

*) - अब आप क्या कर रहे है?
परशुराम शर्मा - अब भी कला में लीन हूँ। बच्चो को संगीत और वाद्य सिखाता हूँ, डिवोशनल, रीजनल एलबम्स-वीडिओज़ बनाता हूँ। कभी कबार स्थानीय फिल्मो में अभिनय करता हूँ। 68 साल का हूँ पर इन कलाओं  सानिध्य में हमेशा जवान  रहूँगा। 

*) - क्या नोवेल्स-कॉमिक्स के ऑफर अब तक आते है आपके पास?
परशुराम शर्मा - कुछ प्रकाशक अब भी मुझसे हिंदी नावेल सीरीज लिखने की बात करते है पर अब इस फील्ड में पैसा बहुत कम हो गया है। युवाकाल जैसी तेज़ी नहीं जो वॉल्यूम बनाकर  मेहनताने भरपाई कर सकूँ। इतना दिमाग लगाने के बाद अगर  पारिश्रमिक ना मिले तो निराशा होती है। अखबार वाले मुझे लेखो के 200-300 रुपये  चैक देते थे और पूछने पर बताते कि लोग तो फ्री में लिखने को तैयार है, हम तो फिर भी आपको कुछ दे रहे है। 

*) - अब किन पुराने साथियों के संपर्क में है?
परशुराम शर्मा - कभी कबार कुछ मित्रों से बातचीत हो जाती है। यहाँ स्थानीय कार्यक्रमों में वेदप्रकाश शर्मा जी, अनिल मोहन आदि उपन्यासकारों से भी मिलना हो जाता है। 

Parshuram ji in T Series Video

*) - क्या अंतर है पहले और अब कि ज़िन्दगी में?
परशुराम शर्मा - पहले जीवन की गति इतनी तीव्र थी कि ठहर कर कुछ सोचना या अवलोकन कर पाना कठिन था। आजकल कुछ आराम है तो वह भागदौड़ में रचनात्मकता किसी सुखद फिल्म सी आँखों के सामने चलती है। 

*) - आपके लिए कुछ सबसे यादगार पल बांटे। 
परशुराम शर्मा - ऐसे बहुत से लम्हे आये जब मुझे विश्वास ही नहीं हुआ अपने भाग्य पर। जो अब याद है उनमे जैकी श्रॉफ का मेरे साथ फोटो खिंचवाने के लिए लाइन में लगना , अमिताभ बच्चन जी का मुझसे मिलने पर यह बताना कि मेरे लेटेस्ट उपन्यास की 5 कॉपीज़ उनके पास रखी है, प्रकाशकों का मेरी कई कृतियों के लिए लड़ना आदि। 

*) - इंटरनेट के आने से क्या बदलाव महसूस किये आपने?
परशुराम शर्मा - ज़्यादा तो मैंने सीखा नहीं पर कुछ वर्ष पहले जिज्ञासावश अपना नाम सर्च किया तो बहुत कम काम था मेरा वहां। मैं कुछ प्रशंषको का धन्यवाद देता हूँ जिन्होंने जाने कहाँ-कहाँ से खोजकर मेरी कई कॉमिक्स और उपन्यासों की लिस्टस, चित्र आदि इंटरनेट पर अपलोड किये। सच कहूँ तो अब उनमे से काफी काम तो मैं भूल चुका हूँ  कि वो मैंने ही लिखे थे।  

*) - आपके ऑफिस के बाहर कुछ पोस्टर्स और भी लगे है उनके बारे में बताएं? 
परशुराम शर्मा - एक पोस्टर कुछ समय पहले आई फिल्म "देसी डॉन" का है, कुछ एलबम्स साईं बाबा पर रिलीज़ हुयी पिछले 3 वर्षों में। 

*) - लेखन, संगीत, अभिनय, निर्देशन आदि विभिन्न कलाओं में ऐसी निरंतरता, दक्षता कैसे लाते है आप?
परशुराम शर्मा - इसका उत्त्तर मेरे पास भी नहीं है, शायद इन कलाओं के प्रति मेरा दीवानापन मुझे रचनात्मक कार्य करते रहने को प्रेरित करता है। 

*) - भविष्य कि योजनाओं और प्रोजेक्ट्स से अवगत करायें। 
परशुराम शर्मा - कुछ होनहार बच्चो को संगीत में लगातार शिक्षा दे रहा हूँ, उनमे एक ख़ास हीरा तराशा है जिसका नाम है अंश। उसके साथ साईं बाबा पर डिवोशनल एल्बम अक्टूबर 2014 में लांच की, अब वह कुछ टैलेंट शोज़ के ऑडिशंस दे रहा है। बहुत जल्द आप उसे टीवी पर देखेंगे। नयी पीढ़ी के प्रति  दायित्व निभाने के साथ - साथ जीवन में सोचे ख़ास, चुनिंदा आइडियाज को किस तरह अलग-अलग माध्यमो में  मूर्त रूप दूँ यह सोच रहा हूँ। 

Master Ansh

*) - कॉमिक्स पाठको को क्या संदेश देना चाहेंगे? क्या हम आपका नाम दोबारा कॉमिक्स में देखने की उम्मीद कर सकते है। 
परशुराम शर्मा - मैं उनका आभार प्रकट करूँगा जिन्होंने इस मरती हुयी इंडस्ट्री में जान फूँकी। काल बदलते है, इसलिए चाहे बदले प्रारूपों में ही सही कॉमिक्स का सुनहरा समय फिर से आयेगा। जी हाँ! आगे दोबारा मैं कॉमिक्स लिख सकता हूँ अगर परिस्थिति सही बनी तो। 

इस तरह उनका धन्यवाद करता हुआ, आशीर्वाद लेकर फूल के कुप्पा हुआ मैं उनके ऑफिस से बाहर निकला। जल्द ही उनकी अनुमति लेकर जो गीत उन्होंने मुझे सुनाये थे वो अपलोड करूँगा। 

- मोहित शर्मा (ज़हन) 
#mohitness #mohit_trendster #freelance_talents

Saturday, April 25, 2015

Comic Fan Fest # 03 (19 April, 2015)

Comic Fan Fest # 03 (19 April, 2015)
दिल्ली में आयोजित कॉमिक फैन फेस्ट अप्रैल 2015 धमाकेदार इवेंट का हिस्सा बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। एक के बाद एक इतना सब था इस इवेंट में कि समय का पता ही नहीं चला जिसके लिए एक बार फिर से दीपक चौहान, आकाश मोहनीश बधाई के पात्र है। बैज, केक, गिफ्ट्स आदि में काफी बारीकी से सोचा गया और सोच को मूर्त रूप देने के लिए हफ्तों की मेहनत की गयी। राज कॉमिक्स पर आकाश द्वारा बनायीं गयी एंड्राइड एप, मेहमान कलाकारों द्वारा बनाये गए चित्र बेहतरीन थे। प्रदीप शेरावत जी, जगदीश कुमार जी और जय खोहवाल भाई के अलावा इस बार ललित शर्मा जी ने आयोजन की रौनक बढ़ाई। मैं धनंजय, अभिमनु, आयुष और नितिन मुंजाल जी से पहली बार मिला। लोकेश, संजय और अयाज़ ने मुझे कॉमिक्स, किताबें और पोस्टर गिफ्ट में दिए । इस अवसर पर मेरी लिखी शार्ट फिल्म बावरी बेरोज़गारी भी आयोजको के सौजन्य से चली। शिवांक द्वारा विभिन्न हस्तियों की मिमिकरी और आयुष का एक्ट मनोरंजक थे। बीच में सभी के अलग-अलग मुद्दो पर गंभीर पर रोचक संवाद हुए। सदाबहार रवि भाई और शुभांकित बिना मंच पर आये ही अपनी बातों-कमेंट्स से सबका मनोरंजन कर रहे थे।
Ravi Yadav, Jai Khohwal and Pradeep Sherawat
अंत में यही कहूँगा कि यह आयोजन पिछले वर्ष दिसंबर कॉमिक फैन फेस्ट के आयोजन से बेहतर था, आगे यह उम्मीद करता हूँ कि कॉमिक फैन फेस्ट और बड़े स्तर पर पहुँचे, सदस्यों एवम आयोजको की मेहनत और योजनाएँ देखकर लगता है ऐसा ज़रूर होगा।
- मोहित शर्मा (ज़हन)